बच्चों का स्वास्थ्य

सावधान ! आपके बच्चे को डायबिटीज़ तो नहीं है ? Does your child suffering from DIABETES?

जहां तक मैं समझता हूं डायबिटीज़ का नाम आप सभी लोगों ने सुना होगा और इसके बारे में काफी जानकारी भी है। आइये इसके के बारे में कुछ और विस्तार से जानते हैं।

डायबिटीज़ एक बहुत गंभीर मेटाबॉलिक बीमारी है जो शरीर द्वारा सामान्य रूप से भोजन, विशेष रूप से शुगर (कार्बोहाइड्रेट) के टूटने और शरीर द्वारा उसके उपयोग को रोकती है।

डायबिटीज के दो प्रकार होते हैं  टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज।
बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपके बच्चे का शरीर एक महत्वपूर्ण हार्मोन (इंसुलिन) बनाना बंद कर देता है। बच्चे को जीवित रहने के लिए इंसुलिन इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है। इसलिए बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज को इंसुलिन डिपेंडेंट डायबिटीज रूप में जाना जाता है।

कारण

टाइप 1 डायबिटीज का सटीक कारण अभी पता नहीं है। लेकिन टाइप 1 डायबिटीज वाले अधिकांश बच्चों में, शरीर का इम्यून सिस्टम (जो आम तौर पर हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस से लड़ता है) गलती से पैंक्रियाज में इंसुलिन बनाने वाली कोशिकाओं को नष्ट कर देता है। इंसुलिन, ब्लड शुगर कोशिकाओं तक ले जाने में महत्वपूर्ण कार्य करता है। आनुवंशिकी (जेनेटिक) और पर्यावरणीय (एनवायरमेंटल) फेक्टर भी इस प्रक्रिया में भूमिका निभाते हैं।

एक बार पैंक्रियाज की आइलेट कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं तो आपका बच्चा बहुत कम इंसुलिन पैदा करता है। नतीजतन, आपके बच्चे के ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा काफी बढ़ जाती है। यही ग्लूकोज डायबिटीज़ में होने वाली जटिलताओं का कारण बनता हैै।

जोखिम (रिस्क फैक्टर)

बच्चों में टाइप 1 मधुमेह के रिस्क फैक्टर

फैमिली हिस्ट्री
टाइप 1 डायबिटीज वाले माता-पिता के बच्चों या भाई-बहनों में इस बीमारी के विकसित होने की संभावना होती है।

आनुवंशिक संवेदनशीलता (जेनेटिक फैक्टर)
कुछ जीनों की उपस्थिति से टाइप 1 डायबिटीज के विकास का खतरा बढ़ जाता है। संयुक्त राज्य अमेरिका में, गैर-हिस्पैनिक श्वेत बच्चों में अन्य नस्लों की तुलना में टाइप 1 मधुमेह अधिक पाई जाती है।

वायरस
विभिन्न वायरस के संपर्क में आने से आइलेट कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं और इंसुलिन का उत्पादन कम या रुक जाता है।

गाय का दूध
बचपन में गाय के दूध के सेवन से टाइप 1 डायबिटीज खतरा बढ़ जाता है, जबकि स्तनपान (ब्रेस्ट फीडिंग) से इसका खतरा कम हो सकता है।

(अनाज) सीरियल्स
एक बच्चे के आहार में अनाज की शुरूआत का समय भी बच्चे के टाइप 1 मधुमेह के जोखिम को प्रभावित कर सकता है।

लक्षण

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लक्षण बहुत ही कम अवधि में विकसित होते हैं। आमतौर पर बच्चा कुछ हफ्तों पहले बिल्कुल ठीक होता है और कुछ ही हफ्तों में इसके लक्षण विकसित हो जाते हैं।

डायबिटीज़ के लक्षण

  • अत्यधिक भूख।
  • बढ़ी हुई प्यास और पसीना आना ।
  • बार-बार और सामान्य से अधिक पेशाब (विशेष कर रात को ) करना।
  • बच्चे द्वारा अचानक बिस्तर गीला करना।
  • आपके बच्चे की मांसपेशियों और अंगों में ऊर्जा की कमी होती है।
  • सामान्य से अधिक खाने के बावजूद भी वजन घटना।
  • उल्टी और मतली।
  • सिर दर्द।
  • बिना किसी वजह के वजन कम होना
  • थकान और शरीर में सुस्ती।
  • चिड़चिड़ापन या व्यवहार और मूड में परिवर्तन।
  • बच्चे के स्कूल में प्रदर्शन में अचानक गिरावट।
  • साँस में दिक्कत।
  • सांस में कीटोन्स की दुर्गंध।
  • दिल की तेज़ धड़कन।
  • आंखों से धुंधला दिखाई देना।
  • बच्चा स्पष्ट रूप से ध्यान केंद्रित करने में परेशानी।
  • खमीर (yeast) संक्रमण। टाइप 1 डायबिटीज वाली लड़कियों में जननांग खमीर संक्रमण हो सकता है।
  • मुंह में अक्सर छाले होना।
  • बार बार इंफेक्शन होना।
  • घाव भरने में समय लगना।

कॉम्प्लिकेशन

टाइप 1 डायबिटीज की जटिलताएं धीरे-धीरे विकसित होती हैं। यदि लंबे समय तक ब्लड शुगर के स्तर को अच्छी तरह से कंट्रोल नहीं किया जाता है, तो डायबिटीज की जटिलताएं बढ़ सकती हैं।

दिल के रोग (Heart Disease )
डायबिटीज आपके बच्चे में सीने में दर्द (एनजाइना), दिल का दौरा, स्ट्रोक, धमनियों का संकुचित होना (एथेरोस्क्लेरोसिस) और ब्लड प्रेशर की संभावना को बढ़ाता है।

तंत्रिका क्षति  (Nerve Damage)
आमतौर पर समय की लंबी अवधि में धीरे-धीरे होती है। पैरों में झुनझुनी, सुन्नता, जलन या दर्द हो सकता है।

गुर्दे की क्षति (Kidney Damage )

डायबिटीज बच्चों के गुर्दे को नुकसान पहुंचाता है। गंभीर स्थिति में गुर्दे फेल भी हो सकते हैं। जिसके लिए डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण की आवश्यकता होती है।

आंखों की बीमारी (Eye Disease)
डायबिटीज रेटिना की रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे  आंख की रोशनी  कम हो सकती है। यहां तक कि अंधापन भी हो सकता है।

त्वचा की बीमारी (Skin Problems)
डायबिटीज आपके बच्चे की त्वचा संबंधित समस्याओं को बढ़ावा देता है, जैसे बैक्टीरियल और फंगल इनफेक्शन।

ऑस्टियोपोरोसिस
डायबिटीज सामान्य हड्डी डेंसिटी कम कर सकता है, जिससे आपके बच्चे को एक वयस्क के रूप में ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा बढ़ जाता है।


निवारण (रोक थाम)

आपके बच्चे के टाइप 1 मधुमेह को रोकने के लिए आप ज्यादा कुछ नहीं कर सकते हैं,  आप अपने बच्चे को इसकी जटिलताओं को रोकने में मदद कर सकते हैं।
अपने बच्चे को जितना संभव हो उतना अच्छा ब्लड शुगर कंट्रोल बनाए रखने में मदद करें। अपने बच्चे को स्वस्थ आहार खाने और नियमित शारीरिक गतिविधि में भाग लेने का महत्व दें। अपने बच्चे को डायबिटीज डॉक्टर और आंखों के डॉक्टर साथ नियमित रूप से  कंसल्ट करें।

लक्षणों को मिस मत करो

डायबिटीज वाले बच्चे और किशोर आमतौर पर चार मुख्य लक्षणों का अनुभव करते हैं,
बहुत ज्यादा प्यास लगना
बार बार पेशाब लगना
बहुत ज्यादा भूख लगना
बहुत ज्यादा वजन घटना
लेकिन कई बच्चों में केवल एक या दो ही लक्षण होंगे। कुछ मामलों में, इनमें से कोई भी लक्षण नहीं होगा

यदि कोई बच्चा अचानक अधिक प्यास या थका हुआ महसूस करे या सामान्य से अधिक पेशाब करता है, तो उनके पेरेंट्स को डायबिटीज की संभावना मानकर डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।